ऊँट की सोच-Hindi Motivational Story-Always Think Positive

एक बार की बात है एक व्यक्ति अपने ऊँट के साथ गाँव की और जा रहा था रास्ते में बैठे एक व्यक्ति ने देखा की एक ऊँट पतली सी रस्सी  के साथ बंधा हुआ है और उसके मालिक के साथ चले जा रहा है अगर ये ऊँट चाहे तो इस रस्सी को आराम से तोड़ सकता है आखिर में ये सवाल जो मन में उठा हुआ था पूछ ही लिया उस ऊँट के मालिक से.

hindi story

ऊँट की बचपन की सोच

सुनो भाई आओ यहाँ बैठ जाओ थके हुए लग रहे हो आराम कर के चले जाना और वो बैठ जाता है अपने ऊँट को एक पेड़ से बांध देता है तभी वह व्यक्ति अपना सवाल पूछता है की मै आपसे एक बात पुछु? फिर ऊँट का मालिक बोलता है हाँ-हाँ क्यों नही तभी फिर व्यक्ति बोलता है की इतना बड़ा ऊँट एक पतली सी रस्सी से बंधा हुआ है अगर ये चाहे तो रस्सी तोड़ सकता है फिर ये ऐसा क्यों नही करता है तभी ऊँट का मालिक बोलता है ये जब से छोटे होते है तब से रस्सी से बंधे होते  है और ये तब बहुत पर्यास कर चुके है रस्सी को तोड़ने की पर रस्सी नही तोड़ पाए बस तब से ये सोच कर बैठ चुके है की अब ये रस्सी कभी नही टूटेगी और अब तो इन्हें आदत भी हो गई है तो अब इस सोच को लेकर ये आज भी इस रस्सी को तोड़ नही पाए है ये ऊँट बड़े तो हो गए है पर सोच अभी भी बचपन वाली है तभी ये ऊँट हमारी control में रहता है.

Moral Of This Story

दोस्तों हम भी इस ऊँट की तरह सोचने लग जाते है की हम कुछ नही कर सकते है अब मेरा समय चला गया है अब मै बेकार हूँ  अपने आप को कोसने लग जाते है  हमने खुद को लेकर इतनी ज्यादा नकारात्मक सोच बना ली है अगर हम REAL में भी  कुछ कर  सकते हो ना तब भी ना कर पाए BECAUSE OF OUR NEGATIVE THINKING.

SO FREINDS हमे ऐसी अपनी सोच नही बनानी है Positive सोचो चाहे वो  हमारी  Condition उस टाइम अच्छी हो या बुरी..

Always Be Positive

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Kaise Kren © 2018